LyricsDin Aur Raatein

Siddhant Bhosle

Last update on: June 22, 2020
#together against coronavirus

दिन और रातें बहते ही जाये ज़िंदगी थम सी गई है

जितने दूर हम उतने करीब हैं दिल को कैसे बताये! फ़ासले भी जरूरी हैं नज़दीकियाँ बढ़ाने को दिन और रातें बहते ही जाये रे (जाये रे) ज़िंदगी थम सी गई है जितने दूर हम उतने करीब हैं दिल को कैसे बताये! Scrollin' the day away I'm sleepless at night 'cause I miss you I know we'll get through Yeah अभी-अभी मिला था तुमसे अभी-अभी ज़ुदा हुआ क्यूँ, जानू ना! जानू ना, हो-ओ अभी-अभी तो सब सही था अभी-अभी रुका है सब क्यूँ,जानू ना! पर रुकते ना, ये दिन और रातें बहते ही जाये रे ज़िंदगी थम सी गई है जितने दूर हम (दूर हम) उतने करीब हैं (उतने करीब हैं) तुमको मिल के बतायेंगे

  • 0

Last activities

Musixmatch for Spotify and
Apple Music is now available for
your computer

Download now