LyricsApni Prem Kahaniyan

Lata Mangeshkar

  • Written by:
Last update on: January 20, 2022

हाए, शरमाऊँ, ओए-ओए-ओए-ओए हाए, शरमाऊँ

हाए, शरमाऊँ, किस-किस को बताऊँ? ऐसे कैसे मैं सुनाऊँ सबको? अपनी प्रेम कहानियाँ, अपनी प्रेम कहानियाँ बालमा की, जालमा की, हाए, तीन निशानियाँ हाए, शरमाऊँ, किस-किस को बताऊँ? ऐसे कैसे मैं सुनाऊँ सबको? अपनी प्रेम कहानियाँ, अपनी प्रेम कहानियाँ पहली निशानी, मैं हूँ जिसकी दीवानी पहली निशानी, मैं हूँ जिसकी दीवानी रुत जैसे तूफ़ानी, ऐसी उसकी जवानी ये रुत जैसे तूफ़ानी, ऐसी उसकी जवानी, मस्तानी उसके आगे, फ़ीकी लागे हाए, सबकी जवानियाँ हाए, शरमाऊँ, किस-किस को बताऊँ? ऐसे कैसे मैं सुनाऊँ सबको? अपनी प्रेम कहानियाँ, अपनी प्रेम कहानियाँ कुर्ता है नीला, रंग पगड़ी का पीला कुर्ता है नीला, रंग पगड़ी का पीला रूप उसका कटीला, ऐसा है वो छबीला रूप उसका कटीला, ऐसा वो छबीला, रंगीला चाल शराबी, रंग गुलाबी ਤੇ ਅੱਖਾਂ ਮਸਤਾਨੀਆਂ हाए, शरमाऊँ, किस-किस को बताऊँ? ऐसे कैसे मैं सुनाऊँ सबको? अपनी प्रेम कहानियाँ, अपनी प्रेम कहानियाँ आँखों को मीचे, देखो, साँसों को खींचे आँखों को मीचे, देखो, साँसों को खींचे वहाँ पीपल के नीचे, मेले में सबसे पीछे वहाँ पीपल के नीचे, मेले में सबसे पीछे खड़ा है नींद उड़ाए, चैन चुराए ते करे बेइमानियाँ हाए, शरमाऊँ, किस-किस को बताऊँ? ऐसे कैसे मैं सुनाऊँ सबको? अपनी प्रेम कहानियाँ, अपनी प्रेम कहानियाँ बालमा की, जालमा की, हाए, तीन निशानियाँ हाए, शरमाऊँ, किस-किस को बताऊँ? ऐसे कैसे मैं सुनाऊँ सबको? अपनी प्रेम कहानियाँ, अपनी प्रेम कहानियाँ

  • 10

Last activities

Synced byRishav Yadav

One place, for music creators.

Learn more