LyricsSaawali Si Raat (From…

Arijit Singh, Pritam

  • Written by:
Last update on: December 31, 2019

सांवली सी रात हो ख़ामोशी का साथ हो सांवली सी रात हो

ख़ामोशी का साथ हो बिन कहे बिन सुने, बात हो तेरी मेरी नींद जब हो लापता, उदासियाँ ज़रा हटा ख्वाबों की रज़ाई में, रात हो तेरी मेरी हम्म्म ममम... झिलमिल तारों सी आँखें तेरी खारे खारे पानी की झीलें भर हरदम यूँ ही तू हंसती रहे हर पल है दिल में ख़्वाहिशें ख़ामोशी की लोरियां सुन तोह रात सो गयी बिन कहे बिन सुने, बात हो तेरी मेरी सांवली सी रात हो ख़ामोशी का साथ हो बिन कहे बिन सुने, बात हो तेरी मेरी बर्फी के टुकड़े सा, चंदा देखो आधा है धीरे धीरे चखना ज़रा हम्म हँसने रुलाने का आधा-पौना वादा है कनखी से ताकना ज़रा ये जो लम्हे हैं लम्हों की बहती नदी में हाँ भीग लून हाँ भीग लून ये जो आँखें हैं आँखों की गुमसुम जुबां को मैं सीख लूं हाँ सीख लूं अनकही सी गुफ़्तगू, अनसुनी सी जुस्तजू बिन कहे बिन सुने, अपनी बात हो गयी सांवली सी रात हो ख़ामोशी का साथ हो बिन कहे बिन सुने, बात हो तेरी मेरी

  • 22

Last activities

Synced byFahim Faysal
Translated byYasin Arafat

One place, for music creators.

Learn more