ParolesShaam Se Ankh Mein

Jagjit Singh

Dernière mise à jour le: 25 juillet 2019
1 traduction disponible ||| 1 traductions disponibles1 traduction disponible ||| 1 traductions disponibles
We detected some issues
If you found mistakes, please help us by correcting them.

शाम से आँख में नमीं सी है आज फिर आप की कमी सी है दफ़्न कर दो हमें के साँस मिले नब्ज़ कुछ देर से थमी सी है आज फिर ... वक़्त रहता नही कहीं टिककर इसकी आदत भी आदमी सी है आज फिर ... कोई रिश्ता नही रहा फिर भी एक तसलीम लाजमी सी है आज फिर ...

1 traduction disponible ||| 1 traductions disponibles1 traduction disponible ||| 1 traductions disponibles
  • 0

Dernières activités

Synchronisées parNihar Srivastava
Traduites parNihar Srivastava

Musixmatch pour Spotify et
iTunes sont désormais disponible pour
votre ordinateur

Télécharger maintenant